define('WP_MEMORY_LIMIT', '1024M'); Astroyantra http://www.astroyantra.com Change Your Life through Astrology Mon, 27 Feb 2017 13:47:05 +0000 en-US hourly 1 https://wordpress.org/?v=4.7.2 गुरु के कन्या में गोचर का भावानुसार फल | Jupiter Transit in Virgo http://www.astroyantra.com/%e0%a4%97%e0%a5%81%e0%a4%b0%e0%a5%81-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%95%e0%a4%a8%e0%a5%8d%e0%a4%af%e0%a4%be-%e0%a4%ae%e0%a5%87%e0%a4%82-%e0%a4%97%e0%a5%8b%e0%a4%9a%e0%a4%b0-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%ad/ http://www.astroyantra.com/%e0%a4%97%e0%a5%81%e0%a4%b0%e0%a5%81-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%95%e0%a4%a8%e0%a5%8d%e0%a4%af%e0%a4%be-%e0%a4%ae%e0%a5%87%e0%a4%82-%e0%a4%97%e0%a5%8b%e0%a4%9a%e0%a4%b0-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%ad/#respond Mon, 27 Feb 2017 13:46:43 +0000 http://www.astroyantra.com/?p=37839 गुरु के कन्या में गोचर का भावानुसार फल | Jupiter Transit in Virgo.  बृहस्पति  / गुरु  गोचर में कन्या राशि      ( Virgo Sign ) में 11 अगस्त 2016 को प्रवेश कर चुके हैं और इसी राशि ( में वे 12 सितम्बर 2017 तक भ्रमण करते रहेंगे। गुरु / बृहस्पति  का कन्या में गोचर […]

The post गुरु के कन्या में गोचर का भावानुसार फल | Jupiter Transit in Virgo appeared first on Astroyantra.

]]>
गुरु के कन्या में गोचर का भावानुसार फल | Jupiter Transit in Virgo.  बृहस्पति  / गुरु  गोचर में कन्या राशि      ( Virgo Sign ) में 11 अगस्त 2016 को प्रवेश कर चुके हैं और इसी राशि ( में वे 12 सितम्बर 2017 तक भ्रमण करते रहेंगे। गुरु / बृहस्पति  का कन्या में गोचर का प्रभाव विभिन्न भावो/ घर / House  पर अलग-अलग रूप में पड़ेगा। अर्थात

यदि आप मेष लग्न के जातक है तो गुरु  आपके छठे / षष्ठ /Sixth House में गोचर करेगा। उसी प्रकार यदि आप चंद्र लग्न से देख रहे है तो चन्द्रमा से छठे घर में होगा और उस घर में होने पर गुरु आपके लिए क्या फल प्रदान करेंगे उसका फलित करने की कोशिश की गई है।

Jupiter transit twelfth house

आइये जानते है कि बृहस्पति/ गुरु का सिंह से कन्या राशि में परिवर्तन से जीवन के विभिन्न क्षेत्रों यथा धन, भाई-बंधू, माता-पिता, परिवार, शिक्षा, व्यवसाय, वैवाहिक जीवन आदि का कितना प्रभाव पड़नेवाला है।  इस राशि में गुरु सबसे पहले सूर्य ( SUN ) के उतरा फाल्गुनी नक्षत्र में भ्रमण ( Transit ) करेंगे उसके बाद चन्द्र ( MOON ) तथा मंगल ( MARS ) के नक्षत्र में परिभ्रमण करेंगे। वही नवांश में  मकर राशि से लेकर कन्या राशि  तक क्रमशः परिभ्रमण करेंगे । गुरु का अपने मित्र राशि में आने से घर में मांगलिक कार्य तथा रुके हुए सभी कार्य सम्पन्न होने का संकेत मिलता है।

यहां लग्न तथा चंद्र राशि को आधार मानकर, गुरु का द्वादश भावो पर क्या प्रभाव पड़ने वाला है कि सविस्तार विवेचना की जा रही है। आपकी जन्म कुंडली में चन्द्रमा जिस राशि में होता है उसे ही राशि या चन्द्र राशि कहते है। आइये जानते है ! गुरु का गोचर में कन्या राशि में आने से सभी भावो पर क्या-क्या असर पड़ेगा है।

गुरु के कन्या में गोचर और उसका सभी भावो पर प्रभाव | Jupiter transit in Virgo and its Effects .

कृपया आप इस URL पर क्लिक करे 

Jupiter Transits Effects in 1st House | प्रथम भाव में गुरु गोचर का फल

Jupiter Transits Effects in 2nd House | दूसरा भाव में गुरु गोचर का फल

Jupiter Transits Effects in 3rd House | तृतीय भाव में गुरु गोचर का फल

Jupiter Transits Effects in 4rth House | चतुर्थ भाव में गुरु गोचर का फल

Jupiter Transits Effects in 5th House | पंचम भाव में गुरु गोचर का फल

Jupiter Transits Effects in 6th House | षष्ठ भाव में गुरु गोचर का फल

Jupiter Transits Effects in 7th House | सप्तम भाव में गुरु गोचर का फल

Jupiter Transits Effects in 9th House | नवम भाव में गुरु गोचर का फल

Jupiter Transits Effects in 10th House | दशम भाव में गुरु गोचर का फल

Jupiter Transits Effects in 11th House | एकादश भाव में गुरु गोचर का फल

Jupiter Transits Effects in 12th House | बारहवे भाव में गुरु गोचर का फल

The post गुरु के कन्या में गोचर का भावानुसार फल | Jupiter Transit in Virgo appeared first on Astroyantra.

]]>
http://www.astroyantra.com/%e0%a4%97%e0%a5%81%e0%a4%b0%e0%a5%81-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%95%e0%a4%a8%e0%a5%8d%e0%a4%af%e0%a4%be-%e0%a4%ae%e0%a5%87%e0%a4%82-%e0%a4%97%e0%a5%8b%e0%a4%9a%e0%a4%b0-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%ad/feed/ 0
Abroad Travel and Settlement Yoga in Vedic Astrology http://www.astroyantra.com/abroad-travel-settlement-yoga-vedic-astrology/ http://www.astroyantra.com/abroad-travel-settlement-yoga-vedic-astrology/#comments Sat, 25 Feb 2017 16:56:11 +0000 http://www.astroyantra.com/?p=38685 Abroad Travel and Settlement Yoga in Vedic Astrology. Now a day’s everyone has a dream to travel abroad. One first question that comes in mind, is it possible for me, if yes then why and how will it be possible? For what purpose/ reason I will go to abroad? There are many possibilities’, like for […]

The post Abroad Travel and Settlement Yoga in Vedic Astrology appeared first on Astroyantra.

]]>
Abroad Travel and Settlement Yoga in Vedic AstrologyAbroad Travel and Settlement Yoga in Vedic Astrology. Now a day’s everyone has a dream to travel abroad. One first question that comes in mind, is it possible for me, if yes then why and how will it be possible? For what purpose/ reason I will go to abroad? There are many possibilities’, like for pursuing Education, service, business, permanent settlement, tourism or pilgrimage journey, diplomatic, government assignment, marriage with foreigner etc. Now question arises in mind who will give the answer to my question. I think astrology can give a quiet satisfying answer, so one should approach to an astrologer for that purpose.

An Astrologer can guide you about your confusions like foreign settlement, foreign education etc. There are many astrological combinations related to abroad or foreign settlement is present in astrology. An astrologer can predict about foreign travels at the time of birth, when you will go to abroad on the analysis of your birth chart / horoscope.

Abroad traveling has become more common these days due to globalization, there are many foreign companies called MNCs that hire people from India, even the movement of students abroad for higher studies has increased to a great extent. So let’s know about the possible astrological combinations for abroad travel.

Related Houses for abroad travel and settlement

As the classical text and commentary mention a few scattered planetary combinations in this respect . According to Astrology 3th, 4rth, 7th, 8th, 9th or 12th houses of every horoscope represent foreign travel and settlement.

Houses

3rd House – Signifies short journey and also house of 12th from 4rth house

4th House – Signifies birth place`s house

7th house – Signifies journey and foreign settlement

8th House – Signifies change in profession etc.

9th House – Signifies long journey and fate

10th house – Signifies career or profession

12th house – Signifies foreign land house

Promise and timing of traveling abroad

If the above mentioned houses are connected to each other like 4th lord (home) and 12th lord (foreign house) with 10th lord (career, profession) it means the native will travel foreign for career and permanent settlement is possible on foreign land.

If 5th, 9th and 12th house are connected to each other, then people will go abroad for attending seminars, lectures or educational purposes.

When the main period or sub period of planets owning or occupying these houses or there is connection of period Lord with above said signifying houses ( 3rd, 4th, 9th,10th, 12th) there may be abroad travel.
Even the transit of Saturn, Jupiter and Rahu from these houses facilitates foreign travel.

Double transit of Saturn and Jupiter on foreign house will give auspicious result.

Abroad Travel and Settlement Yoga in Vedic Astrology

Important Rule for abroad travel and settlement

4th house and Lord from Ascendant, Moon Sign and Pada Lagna also must be afflicted by malefic planets like Saturn, Mars, Rahu etc.

Rahu and ketu connection with 4th house and lord from both lagna .

If 4th house is afflicted by malefic planet or 4rth Lord is placed in 6th house, 8th house, or 12th house in the horoscope the person will leave his native place to settle abroad.

Rahu and ketu axis is in 12th house from both Lagna.

Rah and ketu axis is in 12th house from Pada Lagna also and connection with 4rth house and lord from pada lagna.

Ketu situated in 12th house (House of foreign land).

If the Moon itself placed in quadrant, Cancer or Pisces sign, exalted or own house in 8th, 9th or 12th house, or Trikon especially in 9th house foreign travel is sure.

If 4rth house lord placed in 12th house and 12th house lord in the fourth house the native will settle abroad.

9th Lord placed in 12th house It means fortune from abroad so the native will go abroad and living in sage heritage because 12th house is 4rth from 9th house which is house of pilgrimage.

If dispositor of Moon connected with 9th house and Lord, 12th house and Lord the native also think for abroad travel and at last he will fulfill their desire.

Majority of planet placed in movable sign in Kendra and Moon must place there.

If 5th house and Lord connected with 12th house or Lord the person will go to foreign country for the purpose of studies. If 10th Lord is also connected then the native will go for studies and after that do job also.

7th houses and Lord signifies frequent travel, trades and foreign country also so 7th house or 7th Lord Connection to 9th house or Lord and 12th house or 12th Lord the person will go away from native place.

Now we would illustrate further through horoscope of native who traveled abroad and had residence in foreign countries.

Example Horoscope

DOB: 21 September 1970,  Time: 21:45,  Place: Mumbai

Abroad Travel and Settlement Yoga in Vedic Astrology
1. Above mention horoscope Ascendant Lord Venus placed in 6th house with 8th lord Jupiter and aspect to 12th house (House of foreign).

2. 10th lord Saturn placed in 12th house (House of foreign).

3. Ascendant lord Venus aspect to 10th lord Saturn and foreign house.

4. 4th house is also afflicted with three malefic planet Mars, Rahu and ketu.

5. 12th and 7th House lord Mars is placed in the 4th house.

6. 9th house (House of long journey) lord Saturn is placed in foreign house.

7. Foreign house lord Mars is associated with Rahu ketu axis.

The person always visits to foreign county for professional reason. Profession house lord Saturn placed in foreign house and Ascendant lord Venus aspect to Saturn so native visit abroad for work in this horoscope. Horoscope of the native fulfills many rules which is already mention.

The post Abroad Travel and Settlement Yoga in Vedic Astrology appeared first on Astroyantra.

]]>
http://www.astroyantra.com/abroad-travel-settlement-yoga-vedic-astrology/feed/ 1
Effects of Fourth Lord in Third House in Hindi | तृतीयेश तृतीय भाव में फल http://www.astroyantra.com/effects-fourth-lord-third-house-hindi/ http://www.astroyantra.com/effects-fourth-lord-third-house-hindi/#respond Thu, 23 Feb 2017 15:15:51 +0000 http://www.astroyantra.com/?p=38677 Effects of Fourth Lord in Third House in Hindi | तृतीयेश तृतीय भाव में फल | आपकी जन्मकुंडली में चतुर्थ भाव माता, वाहन,प्रॉपर्टी, भूमि, मन, ख़ुशी, शिक्षा  इत्यादि का कारक भाव है  अर्थात जब भी चतुर्थ भाव का स्वामी किसी भाव में जायेगा तब इसी फल को प्रदान करने की कोशिश करेगा । तीसरा घर […]

The post Effects of Fourth Lord in Third House in Hindi | तृतीयेश तृतीय भाव में फल appeared first on Astroyantra.

]]>
Effects of Fourth Lord in Third House in Hindi | तृतीयेश तृतीय भाव में फल Effects of Fourth Lord in Third House in Hindi | तृतीयेश तृतीय भाव में फल | आपकी जन्मकुंडली में चतुर्थ भाव माता, वाहन,प्रॉपर्टी, भूमि, मन, ख़ुशी, शिक्षा  इत्यादि का कारक भाव है  अर्थात जब भी चतुर्थ भाव का स्वामी किसी भाव में जायेगा तब इसी फल को प्रदान करने की कोशिश करेगा । तीसरा घर या भाव यात्रा, साहस, परिश्रम तथा घर से दूर स्थान इत्यादि का कारक भाव है  है अतः जब चतुर्थ भाव का स्वामी तीसरे भाव में होगा तो वैसा जातक अपने घर से दूर निवास  करता है उसका अपना जन्मस्थान छुट जाता है । कई बार यह भी देखा गया है की ऐसा जातक विदेश में भी निवास करता है। यदि विदेश में न निवास करे तो अपने घर से दूर अवश्य ही रहेगा इसमें कोई संदेह नहीं है।

लोमेश संहिता में कहा गया है —

सुखेशे तृतीयेलाभे नित्यरोगी धनी भवेत् ।

उदारो गुणवान दाता स्वभुजार्जित विलवान।।

अर्थात चतुर्थ भाव का स्वामी तृतीय सहज भाव में है तो वैसा व्यक्ति हमेशा रोगग्रस्त होता है। धन सम्पती का स्वामी होता है। वह उदार तथा गुणवान होता है। वह दान करने में समर्थ होता है। ऐसा व्यक्ति अपने ही परिश्रम से अपने भाग्य का निर्माण करता है।

जन्मकुंडली में चतुर्थेश का तृतीय भाव से सम्बन्ध बनता है तो शिक्षा की दृष्टि से उतना अच्छा नहीं माना गया है। कई बार शिक्षा अधूरी रह जाती है या किसी कारण शिक्षा मे रुकावट आ जाती है । यदि रुकावट नहीं आती है तो वैसे जातक को माध्यमिक कक्षा के पढाई में मन नहीं लगता है।

Effects of Fourth Lord in Third House in Hindi | तृतीयेश तृतीय भाव में फल

जन्मकुंडली में यह स्थिति जातक को मानसिक परेशानी भी देता है  हलाकि वैसा व्यक्ति हमेशा भविष्य के लिए चिंतित रहता है।  माता के साथ इनके रिश्ते बहुत अच्छे नहीं होते है। माता के स्वास्थ्य को लेकर हमेशा चिंता बनी रहती है । ऐसा जातक हमेशा कोई न कोई यात्रा करते रहेगा हालांकि यात्रा इनके भाग्यवृद्धि  में सहायक होगा । जातक यात्रा का शौकीन होता है। यात्रा से धन भी कमाता है ।

The post Effects of Fourth Lord in Third House in Hindi | तृतीयेश तृतीय भाव में फल appeared first on Astroyantra.

]]>
http://www.astroyantra.com/effects-fourth-lord-third-house-hindi/feed/ 0
Effects of Fourth House Lord in Fourth House in Hindi http://www.astroyantra.com/effects-fourth-house-lord-fourth-house-hindi/ http://www.astroyantra.com/effects-fourth-house-lord-fourth-house-hindi/#respond Wed, 22 Feb 2017 15:39:02 +0000 http://www.astroyantra.com/?p=38673 Effects of fourth house lord in sixth house in hindi | चतुर्थेश चतुर्थ भाव में फल | किसी भी जन्मकुंडली में चतुर्थ भाव वाहन, माता, प्रॉपर्टी, मन, भूमि, ख़ुशी, बंधू, शिक्षा इत्यादि का कारक भाव है इस भाव से कथित विषय वस्तु के सम्बन्ध में जानकारी मिलती है। यदि चौथे भाव का स्वामी चतुर्थ भाव […]

The post Effects of Fourth House Lord in Fourth House in Hindi appeared first on Astroyantra.

]]>
Effects of fourth house lord in fourth house in hindiEffects of fourth house lord in sixth house in hindi | चतुर्थेश चतुर्थ भाव में फल | किसी भी जन्मकुंडली में चतुर्थ भाव वाहन, माता, प्रॉपर्टी, मन, भूमि, ख़ुशी, बंधू, शिक्षा इत्यादि का कारक भाव है इस भाव से कथित विषय वस्तु के सम्बन्ध में जानकारी मिलती है। यदि चौथे भाव का स्वामी चतुर्थ भाव में ही हो तो ऐसा व्यक्ति बंधू-बांधव से परिपूर्ण होता है । आपके पास दोस्तों की कमी नहीं होगी आप बहुत जल्द ही किसी को अपना मित्र बना लेते है । आप अपने जीवन में धन दौलत, नौकर, भूमि, वाहन, शिक्षा, शांति, धैर्य और माता का सुख प्राप्त करेंगे । आप अचूक सम्पत्ति के मालिक़ हो सकते है । आपके पास अपनी गाड़ी होगी । यदि चतुर्थेश उच्च का या स्व क्षेत्री है तो आपके पास बड़ी गाडी होगी ।

भारतीय ज्योतिष की पुस्तक गर्ग संहिता में में कहा गया है —

सुखपतौ सुखगे सुखसन्निधौ नृपसमो धनवान बहुसेवक ।
पितृसुखं बहुलं जनमान्यता रथजगजाश्च शभै सुखभग् नरः ।।

अर्थात यदि सुख भाव ( Fourth House ) सुख भाव में ही है तो वैसा व्यक्ति सुखी जीवन व्यतीत करता है। वह अपना जीवन राजा के समान जीता है ( राजयोग )। राजा और राजा के समान के अंतर को समझने में समझदारी होगी। आप धनवान होंगे तथा आपके घर में अनेक नौकर होगा। पिता का सुख मिलेगा। समाज तथा परिवार में आपकी प्रतिष्ठा होगी।

ऐसा जातक अपने माता के साथ ज्यादा आत्मीय होता है । आप प्रसन्न और स्थिर चित वाले होते है। आपका स्वभाव शांत सौम्य और सात्विक विचारो से युक्त होगा यही कारण है की आपमें धार्मिकता का भाव कूट कूट कर भरा होता है

आप अपने जीवन में हमेशा सत्य और न्याय के पथ पर चलने का प्रयास करते है ।न्याय का साथ देना अपना सौभाग्य समझते है परन्तु यह तब जब चतुर्थ भाव और भावेश पर किसी भी अशुभ भाव भावेश तथा ग्रहों की दृष्टि या युति न हो यदि ऐसा होगा तो ऊपर से कुछ और अंदर से कुछ और होंगे अर्थात मुख में राम बगल में छुरी वाली कहावत आपके ऊपर चरितार्थ होगी।

The post Effects of Fourth House Lord in Fourth House in Hindi appeared first on Astroyantra.

]]>
http://www.astroyantra.com/effects-fourth-house-lord-fourth-house-hindi/feed/ 0
Effects of Fourth House Lord in Sixth House in Hindi http://www.astroyantra.com/effects-fourth-house-lord-sixth-house-hindi/ http://www.astroyantra.com/effects-fourth-house-lord-sixth-house-hindi/#respond Mon, 20 Feb 2017 15:14:52 +0000 http://www.astroyantra.com/?p=38662 Effects of Fourth House Lord in Sixth House in Hindi | चतुर्थेश का षष्ठ भाव में फल। जन्मकुंडली ( Horoscope ) में चतुर्थ भाव माता, वाहन, प्रॉपर्टी, भूमि, मन, ख़ुशी, शिक्षा इत्यादि का कारक भाव है अर्थात जब भी चतुर्थ भाव का स्वामी किसी भाव में जायेगा तब इसी फल को प्रदान करेगा । कुंडली […]

The post Effects of Fourth House Lord in Sixth House in Hindi appeared first on Astroyantra.

]]>
Effects of Fourth House Lord in Sixth House in HindiEffects of Fourth House Lord in Sixth House in Hindi | चतुर्थेश का षष्ठ भाव में फल। जन्मकुंडली ( Horoscope ) में चतुर्थ भाव माता, वाहन, प्रॉपर्टी, भूमि, मन, ख़ुशी, शिक्षा इत्यादि का कारक भाव है अर्थात जब भी चतुर्थ भाव का स्वामी किसी भाव में जायेगा तब इसी फल को प्रदान करेगा । कुंडली में षष्ठ भाव त्रिक भाव वा दुष्टस्थान के रूप में जाना जाता है जब चतुर्थ भाव का स्वामी छठे घर में जाकर बैठेगा है तो व्यक्ति को चतुर्थ भाव के कारकत्व की हानि करेगा। चतुर्थ भाव का स्वामी जब छठे भाव में होता है तो जातक की माता का स्वास्थ्य सामान्यतः खराब होता है। उनकी आयु भी 65 -70 के बीच देखा गया है हालांकि कुंडली में अन्य ग्रहो की स्थिति तथा दृष्टि उनकी उम्र को प्रभावित करेगा।

लोमेश संहिता में चतुर्थेश का षष्ठ भाव में फल बहुत अच्छा नहीं कहा गया है —

सुखेश शत्रुगेहस्थे तदा स्यात बहुमातृक :।
क्रोधी वैरी व्यभिचारी दुष्टचितो मनस्व्यपि।।

अर्थात यदि चतुर्थ भाव का स्वामी छठे भाव वा शत्रु क्षेत्र में हो तो ऐसा जातक क्रोधी सबसे झगड़ा करना अथवा विरोध रखने वाला, व्यभिचारी तथा दुष्टचरित्र वाला होता है। उसके दो माता होती है। उसका मन विचलित होते रहता है।

षष्ठ भाव कानूनी मुसीबत देता है अतः चतुर्थेश के इस स्थान पर होने से जातक को कभी न कभी भूमि विवाद से गुजरना पडेगा। प्रॉपर्टी को लेकर कोई न कोई विवाद में आप उलझ सकते है अतः प्रॉपर्टी लेते समय अच्छी तरह से तहकीकात कर ले।

Effects of Fourth House Lord in Sixth House in Hindi

ऐसा जातक मन से परेशान रहता है मन में हमेशा न्याय की बात करते रहता है और न्याय के लिए लड़ने के लिए तैयार भी रहता है। ऐसा व्यक्ति वाहन अवश्य खरीदता है परन्तु पहले पहल पुराना वाहन ही खरीदता है। अपने पास पैसा होने के बावजूद वाहन या मकान खरीदने के लिए ऋण लेते है।

वाहन से दुर्घटना होने के भी बहुत चांस होता है। ऐसा जातक पेट की बिमारी से परेशान रहता है खासकर मेष,वृष,तथा मिथुन लग्न के जातक तो जरूर पेट के रोग से परेशान होते है। आप वकील, जज या डॉक्टर ( Doctor)  बन सकते है। सामाजिक सेवा कार्यो में भी आपकी रूचि होगी।

The post Effects of Fourth House Lord in Sixth House in Hindi appeared first on Astroyantra.

]]>
http://www.astroyantra.com/effects-fourth-house-lord-sixth-house-hindi/feed/ 0
Effects of Fourth House Lord in Fifth House in Hindi http://www.astroyantra.com/effects-fourth-house-lord-fifth-house-hindi/ http://www.astroyantra.com/effects-fourth-house-lord-fifth-house-hindi/#respond Mon, 20 Feb 2017 12:21:14 +0000 http://www.astroyantra.com/?p=38658 Effects of Fourth House Lord in Fifth House in Hindi |चतुर्थेश का पंचम भाव में फल |  चतुर्थ भाव के स्वामी का पंचम भाव में फल चतुर्थ भाव के स्वामी का पंचम भाव में होना बहुत अच्छा माना गया है इसका मुख्य कारण है केंद्र पति का त्रिकोण में होना । ज्योतिष शास्त्र के अनुसार […]

The post Effects of Fourth House Lord in Fifth House in Hindi appeared first on Astroyantra.

]]>
Effects of Fourth House Lord in Fifth House in Hindi | चतुर्थेश का पंचम भाव में फलEffects of Fourth House Lord in Fifth House in Hindi |चतुर्थेश का पंचम भाव में फल |  चतुर्थ भाव के स्वामी का पंचम भाव में फल चतुर्थ भाव के स्वामी का पंचम भाव में होना बहुत अच्छा माना गया है इसका मुख्य कारण है केंद्र पति का त्रिकोण में होना । ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यदि आपकी कुंडली में ऐसा योग है तो ऐसा जातक धन सम्पत्ति तथा मान सम्मान को प्राप्त करता है । ऐसा जातक बहुत ही बुद्धिमान और चालाक होता है इसका मन और बुद्धि हमेशा काम करते रहता है इसका मुख्य कारण है की चतुर्थ भाव का कारक मन का पंचम भाव के कारक बुद्धि के साथ सम्बन्ध होना। अतः ऐसा जातक कोई भी काम हो अपनी बुद्धि लगाता ही लगाता है ।

यदि हम विचार करे तो चतुर्थ भाव से पंचम भाव दुसरे स्थान पर है और कुंडली में दूसरा भाव धन भाव होता है और चौथा भाव माता का अतः ऐसे जातक के माता के पास खूब धन होना चाहिए या ऐसे जातक का मामा पक्ष अवश्य ही धनवान और सामाजिक प्रतिष्ठा से युक्त होगा । ऐसा व्यक्ति अपने मामा के यहाँ बहुत दिन तक रहता है।

लोमेश संहिता के अनुसार यदि चतुर्थेश पंचम स्थान में स्थित हो तो –—-

तुर्येश पञ्चमे भाग्ये सुखी सर्वजनप्रिये।
विष्णुभक्तिरतो मानी स्वभुजार्जितविनाशकृत।

अर्थात ऐसा जातक भाग्यशाली होता है। बचपन से ही सुख-सुविधा का उपभोग करता है। सब लोगो का प्रिय होता है तथा सुखी जीवन व्यतीत करता है। वह विष्णु का भक्त होता है। ऐसा जातक क्रोधी तथा अभिमानी होता है और इस प्रवृति के कारण सामाजिक तथा पारिवारिक प्रतिष्ठा में कमी भी आती है।

Effects of Fourth House Lord in Fifth House in Hindi | चतुर्थेश का पंचम भाव में फल

ऐसा जातक धार्मिक तथा आध्यात्मिक विचारो से युक्त होता है। ऐसे लोग किसी धार्मिक संस्था के प्रमुख के रूप में कार्य करते है । यही नहीं आप राजनैतिक व्यवस्थाओ से जुड़कर मंत्रिपद को प्राप्त करते है ।

आप शिक्षा जगत में खूब नाम कमाएंगे लेकिन कब जब आप मेहनत करेंगे । आप तो धोड़ा ही मेहनत में अधिक पा लेंगे ऐसा होगा आपके पूर्व जन्मों के प्रभाव के कारण। कई बार ऐसा भी देखा गया है की जातक पढाई पूरा नहीं कर पाता है इसका मुख्य कारण होता है इस भाव और भावस्थ ग्रहों के ऊपर अशुभ भाव भावेश तथा ग्रहों का प्रभाव होता है ।

ऐसे जातक में धन लोलुपता बहुत होता है यह बहुत धन कमाना चाहता है परन्तु उसके के लिए प्रयास बहुत कम करता है जिसके कारण अपना टारगेट पूरा नहीं कर पाता है। ऐसा जातक मनमौजी भी होता है।

गर्ग संहिता में कहा गया है कि —–

ऐसा जातक अपने पिता के धन का भरपूर उपभोग करता है। अपने भौतिक सुख का आनंद पिता के धन से पूरा करता है। आपको अपने पिता की अचूक सम्पत्ति भी मिलती है।

सूतगे तूर्यगृहेशं पितृलाभाद भोगवान्मनुज।

The post Effects of Fourth House Lord in Fifth House in Hindi appeared first on Astroyantra.

]]>
http://www.astroyantra.com/effects-fourth-house-lord-fifth-house-hindi/feed/ 0
Effects of Fourth House Lord in Eighth House in Hindi http://www.astroyantra.com/effects-fourth-house-lord-eighth-house-hindi/ http://www.astroyantra.com/effects-fourth-house-lord-eighth-house-hindi/#respond Mon, 20 Feb 2017 12:03:07 +0000 http://www.astroyantra.com/?p=38654 Effects of Fourth  House Lord in Eighth House in Hindi | चतुर्थ भाव के स्वामी का अष्टम भाव में फल किसी भी जन्मकुंडली में चतुर्थ भाव माता,( Mother)  वाहन, ( Vehicle ) प्रॉपर्टी, ( Property)  भूमि, ( Land) मन की  ख़ुशी,  ( Mental Happiness) शिक्षा ( Education) इत्यादि का कारक भाव है यह भाव तथा […]

The post Effects of Fourth House Lord in Eighth House in Hindi appeared first on Astroyantra.

]]>
Effects of Fourth House Lord in Eighth House in HindiEffects of Fourth  House Lord in Eighth House in Hindi | चतुर्थ भाव के स्वामी का अष्टम भाव में फल किसी भी जन्मकुंडली में चतुर्थ भाव माता,( Mother)  वाहन, ( Vehicle ) प्रॉपर्टी, ( Property)  भूमि, ( Land) मन की  ख़ुशी,  ( Mental Happiness) शिक्षा ( Education) इत्यादि का कारक भाव है यह भाव तथा इस भाव का स्वामी जिस भी स्थान में स्थित हो इससे सम्बंधित फल प्रदान करता है। अष्टम भाव जिसे रंध्र स्थान भी कहा जाता है मृत्यु, ( death)  रुकावट,( Obstacle)  हानि,( Loss) अन्वेषण,( Research)  महिला की कुंडली में मांगल्य, ( Marital wish in women horoscope) तंत्र,( Tantra)  आध्यात्म ( Spiritualism)  इत्यादि का कारक भाव है। जब चतुर्थ भाव का स्वामी अष्टम स्थान में स्थित होगा तो निश्चित ही चतुर्थ भाव के कारकत्व को नष्ट करेगा या उस भाव से सम्बंधित फल मे विलम्ब करेगा ।

सुखेश ( Fourth Lord ) का स्वामी जब मृत्यु स्थान में जाएगा तो मृत्यु किसकी होगी सुख की। यहाँ पर “सुख की मृत्यु” ( death of comfort ) से मतलब है सुख में कमी होना। इस स्थिति में धन की हानि भी होती है। यदि वाहन का प्रयोग कर रहे है तो दुर्घटना के कारण मौत भी हो सकती है। बंधू-बांधव ( Brother and Relative) के साथ सामंजस्य बैठने में भी दिक्कत होती है।
यवन जातक में कहा गया है ——

सुखेश व्ययरंध्रस्थे सुखीहीनो भवेन्नरः।
पितृसौख्य भवेदल्प दीर्घायूर्जायते ध्रुवम।।

अर्थात जब चतुर्थेश अष्टम में स्थित होगा तो वैसे जातक के सुख में कमी होगी। पिता का सुख भी कम मिलेगा पिता के सुख में कमी का स्वरूप अनेक रूप में हो सकता है यथा — घर के बाहर रहकर पढाई करना ( Sturdy out of home)  या घर से दूर नौकरी करना इत्यादि। पिता की आयु पूर्ण होती है।

Effects of Fourth House Lord in Eighth House in Hindi

ऐसा जातक यदि कोई रिसर्च का कार्य करे तो उसमे सफलता मिलती है। जमीन जायदाद की हानि होती है। पैतृक सम्पती विवाद में हानि उठाना पड़ता है।दोस्तों तथा पत्नी के सुख में भी कमी हो सकती है।

ऐसे जातक का शिक्षा के क्षेत्र में भी रुकावट आती है। कई बार तो जातक परीक्षा के दौरान रिस्टीकेट हो जाता है या रेस्टिकेट होते होते बचता है। कई बार पारिवारिक जिम्मेदारी के कारण पढाई छोडना पड़ जाता है। वैसा जातक यदि सकारात्मक सोच लेकर कोई काम करता है तो वह अपनी जीवन यात्रा में बहुत आगे बढ़ता है।

The post Effects of Fourth House Lord in Eighth House in Hindi appeared first on Astroyantra.

]]>
http://www.astroyantra.com/effects-fourth-house-lord-eighth-house-hindi/feed/ 0